Home : Books & Magazine :: E-Magzine देव शयन में धार्मिक एवं मांगलिक कार्य क्यों नहीं ?

August - 2021

देव शयन में धार्मिक एवं मांगलिक कार्य क्यों नहीं ?


इस अंक में आप पाएंगे -  ज्योतिष की कुछ भ्रांत धारणाएँ, कल्प, मन्वंतर, लख चौरासी योनि और डार्विन का विकासवाद, मंगल अमंगल क्यों, गोरखपुर की श्रीकुलकुल्या देवी, देव शयन में धार्मिक एवं मांगलिक कार्य क्यों नहीं, लिंगधारिणी ( ललिता ) शक्तिपीठ, पुनर्जन्म के पक्ष में तर्क, पाश्चात्य ज्योतिष हमसे बहुत पीछे है, मंगली योग का परिहार, बांदा का महेश्वरी पीठ, ज्योतिष और गुरुतत्व के आलोक में युगावतार, मंत्र के 8 मुख्य दोष, दैनिक शुभ-अशुभ सारिणी, भारतीय सांस्कृतिक केंद्र काशी - विश्वनाथ, ग्रह मेलापक की रीति साथ ही इस इस अंक में कई ऐसे लेख और स्थाई स्तम्भ है जो इस अंक को आकर्षक बनाते है जैसे - मथुरा क्षेत्र के प्रमुख शक्तिपीठ, भूमिपुत्र भौम-एक अध्ययन, धनागम, धन कब लेवें और कब देवें, ज्योतिष व गीता कर्म पर आधारित, हाथों में समय की गणना, पञ्च देवोपासनाकुछ योगों का विश्लेषण, कब्ज आदि


विषय सूचि
ज्योतिष की कुछ भ्रांत धारणाएँ
कल्प, मन्वंतर, लख चौरासी योनि और डार्विन का विकासवाद
मंगल अमंगल क्यों ?
गोरखपुर की श्रीकुलकुल्या देवी
देव शयन में धार्मिक एवं मांगलिक कार्य क्यों नहीं ?
लिंगधारिणी ( ललिता ) शक्तिपीठ
पुनर्जन्म के पक्ष में तर्क
पाश्चात्य ज्योतिष हमसे बहुत पीछे है
मंगली योग का परिहार
बांदा का महेश्वरी पीठ
ज्योतिष और गुरुतत्व के आलोक में युगावतार
मंत्र के 8 मुख्य दोष
दैनिक शुभ-अशुभ सारिणी
भारतीय सांस्कृतिक केंद्र काशी - विश्वनाथ
ग्रह मेलापक की रीति
मथुरा क्षेत्र के प्रमुख शक्तिपीठ
भूमिपुत्र भौम-एक अध्ययन
धनागम
धन कब लेवें और कब देवें ?
ज्योतिष व गीता कर्म पर आधारित
हाथों में समय की गणना
पञ्च देवोपासनाकुछ योगों का विश्लेषण
कब्ज

INR: 70/-

BUY ONLINE

Subscribe to NEWS and SPECIAL GIFT ATTRACTIVE

Corporate Consultancy
Jyotish Manthan
International Vastu Academy
Jyotish Praveen