Home : Books & Magazine :: E-Magzine वक्री ग्रह और जनमानस का ध्रुवीकरण।

Vakri Grah aur Janmanas ka Dhruvikaran.

वक्री ग्रह और जनमानस का ध्रुवीकरण।


इस अंक में आप पाएंगे - योगभंग, वक्री ग्रह और जनमानस का ध्रुवीकरण, चेष्टाबल, समस्या समाधान, ऋग्वेद संहिता - पद्ध्मय भाष्य , सप्तम भाव और वैवाहिक जीवन, उच्च ग्रहों का वैपरीत्य, गीता और सृष्टि, वन्दे मातरम् ! वंदे मातरम् !!, ज्योतिषीय योग, उच्च के शुक्र, व्यक्ति के कर्म अच्छे या बुरे, अँगुलियों के पोरों का महत्व, अंतिम भाव के अनुसार गति, अमृत वनस्पति - तुलसी, पौराणिक कह्वातों में शास्त्रीय वास्तु साथ ही इस इस अंक में कई ऐसे लेख और स्थाई स्तम्भ है जो इस अंक को आकर्षक बनाते है जैसे - वेलेंटाइन डे, एक नई पहल, कादम्बिनी से ..., रोचक जानकारियाँ, वास्तु और रंग, टैरो कार्ड, तीर्थ की महिमा, जैमिनी की नवांश दशा का आयु दशा के रूप में प्रयोग, भाग्य निर्मात्री भगवती षष्ठी, लौह चुम्बक से चिकित्सा, ग्रह बाधा और उपाय, दान देने-लेने में सावधानी की आवश्यकता, पद्मिनी विद्या के अधीन रहने वाली आठ निधियों का वर्णन, निर्गुण्डी, राशिफल आदि।



विषय सूचि


योगभंग
वक्री ग्रह और जनमानस का ध्रुवीकरण
चेष्टाबल
समस्या समाधान
ऋग्वेद संहिता - पद्ध्मय भाष्य
सप्तम भाव और वैवाहिक जीवन
उच्च ग्रहों का वैपरीत्य
गीता और सृष्टि
वन्दे मातरम् ! वंदे मातरम् !!
ज्योतिषीय योग
उच्च के शुक्र
व्यक्ति के कर्म अच्छे या बुरे
अँगुलियों के पोरों का महत्व
अंतिम भाव के अनुसार गति
अमृत वनस्पति - तुलसी
पौराणिक कह्वातों में शास्त्रीय वास्तु
वेलेंटाइन डे
एक नई पहल
कादम्बिनी से ...
रोचक जानकारियाँ
वास्तु और रंग
टैरो कार्ड
तीर्थ की महिमा
जैमिनी की नवांश दशा का आयु दशा के रूप में प्रयोग
भाग्य निर्मात्री भगवती षष्ठी
लौह चुम्बक से चिकित्सा
ग्रह बाधा और उपाय
दान देने-लेने में सावधानी की आवश्यकता
पद्मिनी विद्या के अधीन रहने वाली आठ निधियों का वर्णन
निर्गुण्डी
राशिफल

INR: 60/-

BUY ONLINE

Subscribe to NEWS and SPECIAL GIFT ATTRACTIVE

Corporate Consultancy
Jyotish Manthan
International Vastu Academy
Jyotish Praveen