होम : राशिफल :: कुम्भ

कुम्भ दैनिक राशिफल 26-10-2020

 कुम्भ दैनिक राशिफल
आज कार्यक्षेत्र में आपकी योजनाओं पर अमल किया जायेगा। आपकी काबिलियत और योग्यता खुलकर लोगों के सामने आयेगी। आज कार्य के घण्टे बढ़ाने पड़ सकते हैं, जिससे आगे चलकर लाभ प्राप्त होगा। यदि आप निजी संबंध में हैं तो अपने साथी के साथ समय निकालने का प्रयास करेंगे। जीवनसाथी के साथ कुछ गलत फहमियाँ पैदा हो सकती हैं।

कुम्भ मासिक राशिफल Oct 2020

व्यक्तिगत - मंगल ग्रह पुन: मीन राशि में आ गए हैं यद्यपि गुरु और शनि अब मार्गी हैं और हर कार्य का संचालन सहज गति से करना चाहते हैं। महीने के मध्य में बुध ग्रह भी वक्री हो जाएंगे जो इस बात का संकेत हैं कि संतान की ओर से कोई नई शुुरुआत हो या उनके काम में सुधार हो। वक्री मंगल भी यही चाहते हैं कि संतान पक्ष के परिणाम पहले आएं। सब कुछ अच्छा नहीं चल रहा और संतान को विरोध भी झेलना पड़ेगा और कठिनाई भी। मंगल कठिनाई उत्पन्न करेंगे, यद्यपि बृहस्पति रक्षा करेंगे।
सामूहिक कार्यों में या सर्वाजनिक सरोकारों में आप अपनी भूमिका को और अधिक स्पष्ट कर देंगे और लोगों को लगेगा कि आपके होने मात्र से बातें बदल गयी हैं। शनि देव लगातारा वर्गोंत्तम नवांशों में हैं और वे आपके कामकाज को अनंत विस्तार देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। अब कुटुम्बियों से काम लेने मुश्किल हो जाएगा और तद्नुकूल ही आप अपनी कार्यशैली परिवर्तन ले आएंगे। वक्री बुध राशि से नवम में हैं जिससे थोड़े बहुत अवरोध अभी भी मौजूद हैं।

व्यावसायिक - जितनी लाभ कमाने की गति है, खर्चा करने की गति उससे भी तेज है। आप जितना अधिक कोशिश करेंगे असंतुलन बना ही रहेगा। खर्च के मद कम नहीं है। साझेदारी के काम में लाभ नजर आता है, क्योंकि शुक्र अब बृहस्पति के दृष्टि क्षेत्र में आ गए हैं और दैनिक क्षेत्र में लाभ की मात्रा बढ़ाएंगे। कोई नई संधि हो सकती है। कार्य विस्तार के लिए योजना बनाएंगे और सम्भव है किसी स्रोत से धन आने की आशा कर रहे हैं। अभी आपको बड़े काम के लिए प्रतीक्षा करनी है। कभी- कभी बहुत कठिन परिस्थितियों से निकलना पड़ेगा। महीने के अंतिम सप्ताह में व्यवसाय यात्रा हो सकती है यद्यपि उनसे बहुत बड़े लाभ की कामना करना बेकार है परंतु आगे बाहर के शहरों से लाभ की अच्छी पृष्ठभूमि बन रही है।

स्वास्थ्य -  स्वास्थ्य नरम ही रहेगा। वक्री मंगल बहुत अधिक तनाव रखेंगे। जीवनसाथी के स्वास्थ्य में भी नरमी रहेगी। वजन घटाने का प्रयास आंशिक रूप से ही समाप्त हो जाएगा। राशि से अष्टम शुक्र महीने के उत्तराद्र्ध में गायनिक संबंधी समस्याएं दे सकते हैं जो कि स्त्रियों में आम हैं। बहुत बुजुर्ग लोग मूत्र विकार से परेशान रहेंगे। इस समय कामपीड़ा बहुत रहेगी, इसलिए मन पर नियंत्रण रखने की चेष्टा अवश्य करें।

रिश्ते- नाते - कुटुम्ब के संबंधों में बिगाड़ रहेगा। अच्छा करते-करते भी बुरा हो जाएगा। बुध वक्री और अस्त हैं, इसलिए एक तरफ धन हानि होगी तो दूसरी तरफ संतान से संबंधित परेशानी चलती रहेगी। यह संतान के लिए बहुत अच्छा समय नहीं है। अपने नियोजक से संबंध अच्छे बनाकर चलें। पदोन्नति संबंधी बाधाएं अभी मौजूद रहेंगी।

Subscribe to NEWS and SPECIAL GIFT ATTRACTIVE

Corporate Consultancy
Jyotish Manthan
International Vastu Academy
Jyotish Praveen